हरक्यूलिस(Hercules) की महान कहानी।

हरक्यूलिस एक मजबूत और बहादुर आदमी था। वह ग्रीस में रहता था। राजा को हरक्यूलिस से जलन थी। लोग हरक्यूलिस को राजा बना देते। इसलिए वह हरक्यूलिस से छुटकारा पाना चाहता था। उन्होंने हरक्यूलिस के लिए मुश्किल काम देने का निर्धारित किया ताकि वह उनके (राजा) के लिए एक संभावित खतरा न बने। एक बार उन्होंने हरक्यूलिस को तीन सुनहरे सेब लाने को कहा।
ये कुछ पेड़ों पर ही पाये थे I इन पेड़ों को एक स्थान पर रखा जाता था जिसे हेस्परिड्स कहा जाता है। लेकिन हेसपेराइड्स जाने तरीका कोई नहीं जानता था। तो राजा ने हेस्पराइड्स के बारे में सोचा। ताकि हरक्यूलिस लंबी अवधि के लिए दूर रहे| हरक्यूलिस यात्रा पर निकले। यात्रा के दौरान सबसे पहले उन्होंने तीन युवतियों से मुलाकात की।

हरक्यूलिस ने उनसे हेस्पराइड्स का रास्ता पूछा। उन्होंने उससे कहा कि वह समुद्र के सिपाही से पूछें। लेकिन उन्होंने उसे चेतावनी भी दी, “समुद्र के सिपाही को कसकर पकड़ लेना। नहीं तो वह बच कर भाग जाएगा। वह समुद्र के किनारे पर सो रहा था। वह अजीब दिख रहा था। उसके लंबे बाल थे। एक दाढ़ी। हरक्यूलिस बिना कोई शोर किए उसके पास गया। फिर उसने उसे बहुत मजबूती से पकड़ लिया। समुद्र के सिपाही ने अपनी आँखें खोलीं। वह आश्चर्यचकित था। उसने खुद को हरिण में बदल लिया। उसने खुद को हरक्यूलिस की चपेट से मुक्त करने की कोशिश की। लेकिन हरक्यूलिस ने उसे जोर से पक्कड़ा हुआ था। फिर उसने खुद को समुद्री पक्षी में बदल दिया।

और फिर दुसरे जानवरों के रूप मे। लेकिन वह खुद को एरेक्लस के चंगुल से मुक्त नहीं कर सका, क्योंकि हरक्यूलिस अपने चंगुल को टाइट और टाइट कर रहा था। अंत में समुद्र के सिपाही ने हरक्यूलिस से कहा, “तुम कौन हो? तुम मुझसे क्या चाहते हो? हरक्यूलिस ने जवाब दिया,” मैं हरक्यूलिस हूं। मुझे हेस्पेराइड्स का रास्ता बताओ। समुद्र के सिपाही ने कहा, टीपा एक द्वीप है। समुद्र के किनारे जाव। आप एक राकक्ष से मिलेंगे। वह आपको हेस्परिड्स का रास्ता दिखाएगा। हरक्यूलिस ने अपनी यात्रा जारी रखी। वह राकक्ष से मिला।वह विशाल बहुत विशाल और मजबूत था। वह किनारे पर सो रहा था। हरक्यूलिस ने उसे जगाया। वह गुस्से में था।

उसने हरक्यूलिस को पकड़ मारा। राकक्ष हरक्यूलिस पर टुट पड़ा। उसने राकक्ष को उठाकर नीचे फेंक दिया। लेकिन राकक्ष तुरंत उठ गया। अब वह दस गुना मजबूत हो गया था। हरक्यूलिस ने उसे बार-बार पटका और नीचे फेंका। हरक्यूलिस ने राकक्ष को हवा में ऊंचा उठा दिया। लेकिन उसने उसे नीचे नहीं फेंका।उस राकक्ष ने धीरे-धीरे अपनी सारी ताकत खो दी। अब उसने हरक्यूलिस से उसे धरती पर गिराने की गुहार लगाई। हरक्यूलिस ने उन्हें हेस्पराइड्स का रास्ता बताने के लिए कहा। उस ने हरक्यूलिस को एटलस से मिलने के लिए कहा उसने उसे उस जगह का रास्ता बताया जहां एटलस १हता था। हरक्यूलिस ने अपनी यात्रा जारी रखी।

वह आखिर में एटलस से मिला।
“आप गोल्डन एपल क्यों चाहते हैं? एटलस ने पूछा”

Related image

मेरे राजा ने मुझे तीन गोल्डन सेब लाने का आदेश दिया है। एटलस ने कहा, “वह सेब यहां से बहुत दुर है। केवल मै वहां जा सकते हैं। लेकिन मेरे लिए तुमको यह आकाश पक्डना हेगा। मैं उन्हें तुम्हारे पास ले आउगा। हरक्यूलिस सहमत हो गये। उन्होंने आकाश को अपने कंधों पर रखा। एटलस चला गया।” थोड़े समय में वापस आ गया। उसने हरक्यूलिस के पैर में तीन सुनहरे सेब रख दिए। हरक्यूलिस ने एटलस को धन्यवाद दिया। उसने एटलस से आकाश वापस लेने का अनुरोध किया।

अच्छा आकाश वापस ले लु! एटलस ने चालाकी से कहा कि यह हजार साल से मेरे पर है। एक हजार साल बाद वापस आऊगा तो लुगा।

एटलस ने जो कहा उस्से हरक्यूलिस हैरान रह गया। लेकिन उन्होंने अपने विस्मय को व्यक्त नहीं किया। उसने अपने आप को शात किया और कहा, “ओह! क्या आप कृपया थोड़ी देर के लिए आकाश को पकड़ लेंगे? मेरे कंधों को आकाश का भार लेने के लिए पैड चाहिय, फिर आपसे आकाश को वापस ले लुगा। इस प्रकार हरक्यूलिस ने बहुत चुपचाप बात की। एटलस सहमत हो गया। हरक्यूलिस तुरंत तीन सुनहरे सेब एकत्र किए। उसने एटलस को अपने चेहरे पर एक शरारती मुस्कान के साथ अलविदा कहा। वह एटलस को अवाक छोड़कर चला गया और वह आश्चर्यचकित २ह गया। कई दिनों की यात्रा र्के बाद अब हरक्यूलिस अपने होम ग्रीस पहुंच।। उसने राजा को तीन सुनहरे सेब दिए।

हरक्यूलिस से सुनहरे सेब प्राप्त कर के राजा ग्रीस आश्चर्यचकित रह गया, वह भी इतने कम समय मे। वह ख़ुश था। लेकिन उन्होंने संतुष्ट नहीं होने का नाटक किया। लेकिन वह चुपके से, हरक्यूलिस को दूर एक और खतरनाक साहसिक यात्रा पर भेजने की योजना बनना शुरु कर ढिया।

बेचारा हरक्यूलिस 😭

to be continued…

फेसबुक पेज लाइक करे: fb.com/techisthan

नियमित अपडेट के लिए व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें: whatsapp/group

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *